E-COURSE
ON
VULNERABILITY ATLAS
OF INDIA

  कार्यकारी निदेशक के डेस्क से

अधिक जानकारी

  नई पहलें : उभरती प्रौद्योगिकियां
 
 

दीवार ईंट, पत्थर, कंकरीट, लकड़ी या धातु की निरंतर, सामान्य : उर्ध्वा धर संरचना है जो लंबाई एवं ऊंचाई की तुलना में कम मोटी होती है, जो भवन को घेरती या संरक्षित करती है या भवन को दो कमरों में बांटने का काम करती है। विभिन्नत कार्यात्मकक अपेक्षाओं के अनुसार बाहरी या भीतरी दीवार के रूप में तथा संरचनात्मीक अपेक्षाओं को अलग-अलग करने के लिए भार वाही या गैर भार वाही के रूप में दीवारों को परिभाषित किया जाता है। भार वाही दीवारें ऐसी दीवारें हैं जो अपने स्वेयं के वजन के अलावा फर्श एवं छत के भार को वहन करती हैं, तथा गैर भार वाही दीवारें ऐसी दीवारें हैं जो केवल अपने स्व यं के भार को वहन करती हैं। विभाजन दीवार कोई ऐसी निरंतर उर्ध्वा धर संरचना है जो कमरे या कम्पा र्टमेंट को विभाजित करती है। व्य वहार में, विभाजन शब्दै का प्रयोग सामान्येतया गैर भार वाही भीतरी विभाजन दीवार का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

 

दीवार दो प्रकार की होती है

ठोस दीवार

फ्रेम की दीवार

 

ईंट, पत्थर या कंकरीट के ब्लालक की ठोस दीवार

लकड़ी, धातु या कंकरीट के छोटे-छोटे खण्डों से बनी फ्रेम दीवार

 

 

 

  • ठोस या फ्रेम वाली:- ठोस दीवार (जिसे कभी-कभी चिनाई की दीवार भी कहा जाता है) का निर्माण ईंट, मिट्टी या पत्थर के पके ब्लाकों, या कंकरीट के ब्लाकों पर मसाला बिछाकर किया जाता है। किसी रूप में ओवरलैप करने के लिए ब्लाक बिछाए जाते हैं जिसे चाल कहा जाता है या एकाश्मक के रूप में अर्थात एक ठोस अबाधित सामग्री जैसे कंकरीट के रूप में बिछाए जाते हैं जिसे गीला उड़ेला जाता है तथा ठोस एकाश्मक (पत्थर का एक टुकड़ा) के रूप में कठोर बन जाता है। ईंट या ब्लाक की ठोस दीवार को ब्लाक (या चिनाई) दीवार की संज्ञा दी जा सकती है, तथा कंकरीट की निरंतर ठोस दीवार को एकाश्मक दीवार कहा जा सकता है

  • फ्रेम की दीवार का निर्माण लकड़ी, कंकरीट या धातु के छोटे-छोटे खण्डों के फ्रेम से किया जाता है जो मजबूती एवं सख्तता प्रदान करने के लिए एक साथ जुड़े होते हैं, जिनके दोनों फलकों, या फ्रेम के घटकों के बीच कुछ सामग्रियों के पतले पैनल जड़े होते हैं जो विशिष् दीवार की कार्यात्मक अपेक्षाओं के अनुसार होते हैं। पूरी दुनिया में निर्माण की एक अन् प्रचलित प्रथा फ्रेम का निर्माण अर्थात बीम कॉमल का निर्माण है। बीम कॉलम के बीच के स्थान को भरने वाली दीवार को भराव दीवार कहा जाता है। इन्हें भी गैर भार वाही दीवार माना जाता है।

 

 

 

 

 

 

 

 असंबद्ध मकान साझी पार्टी दीवार शेयर करते हैं